भूगर्भ जल विभाग

उत्तर प्रदेश सरकार

भूजल स्रोतों का मानचित्रीकरण

भूजल स्रोतों का मानचित्रीकरण (एक्यूफर मैपिंग) एवं भूजल स्रोतों पर पैरामीटर टेस्ट
  • एक्यूफर मानचित्र तैयार कर सस्टेनेबल भूजल प्रबन्धन हेतु भावी रणनीति तैयार करना ।
  • पैरामीटर वेलीडेशन / रिफाइनमेंट के साथ लम्बी अवधि का पम्पिंग/ पैरामीटर टेस्ट ।
एक्यूफर मैपिंग एवं मैनेजमेन्ट की राष्ट्रीय परियोजना

जल संसाधन मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा 12वीं पंचवर्षीय योजना (2012-17) में सेण्ट्रल सेक्टर स्कीम-‘ग्राउण्ड वाटर मैनेजमेन्ट एण्ड रेगूलेशन‘ के अन्तर्गत एक्यूफर मैपिंग एवं मैनेजमेन्ट की राष्ट्रीय परियोजना (National Project on Aquifer Mapping and Management) को एक फ्लैगशिप कार्यक्रम के रूप में वृहद स्तर पर आरम्भ किया गया है। इस राष्ट्रीय परियोजना का मुख्य उद्देश्य भूजल का समग्र प्रबन्धन है, जिसमें भूजल संसाधनों की मैपिंग एवं उसके उपयोग व सुशासन की रणनीति तय किया जाना प्रस्तावित है। परियोजना के अन्तर्गत एक्यूफर मानचित्रों द्वारा भूगर्भ जल संसाधनों की एक समग्र तस्वीर को विकसित कर भूजल संसाधनों से जुड़ी विस्तृत जानकारियाँ प्राप्त की जा सकेंगी। इसके आधार पर एक्यूफर प्रबन्धन योजनाओं को तैयार करके उनको सहभागी भूजल प्रबन्धन के माध्यम से क्रियान्वित किया जा सकेगा, जिससे पेयजल सुरक्षा सुनिश्चित कराने, सिंचाई साधनों को बेहतर बनाने व भूजल संसाधनों का सस्टेनेबल विकास करने में विशेष रूप से मदद मिल सकेगी।

राष्ट्रीय स्तर पर इस परियोजना के क्रियान्वयन, अनुश्रवण एवं समन्वय हेतु भारत सरकार द्वारा ‘राष्ट्रीय अन्तर्विभागीय स्टीयरिंग कमेटी‘ का गठन किया गया है। तत्क्रम में जल संसाधन मंत्रालय, भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुपालन में उत्तर प्रदेश में राज्य स्तर पर इस राष्ट्रीय परियोजना के क्रियान्वयन को सुनिश्चित कराये जाने के उद्देश्य से चिन्हित गतिविधियों के अनुश्रवण व समन्वय एवं विभिन्न स्टेकहोल्डर्स के सक्रिय सहयोग हेतु ‘‘राज्य भूजल समन्वय समिति‘‘ का गठन शासनादेश संख्या- 170/62-1-2014-90 जीडब्लू/2004, दिनांक 29 जनवरी, 2014 द्वारा किया गया है।

उक्त के क्रम में जल संसाधन मंत्रालय, भारत सरकार की अपेक्षानुसार इस राष्ट्रीय परियोजना के राज्य स्तर पर प्रभावी समन्वय एवं क्रियान्वयन में सहयोग हेतु भूगर्भ जल विभाग को ‘नोडल विभाग‘ घोषित किया गया है तथा परियोजना कार्यों के समन्वय हेतु निदेशक, भूगर्भ जल विभाग को ’’राज्य स्तरीय नोडल अधिकारी’’ शासनादेश संख्या- 169/ 62-1-2014-90 जीडब्लू/2004, दिनांक 29 जनवरी, 2014 द्वारा नामित किया गया है।